biographyLife StyleWorld
Trending

नीरज चोपड़ा का लाइफ स्टाइल भाला एथलीट रिकॉर्ड

नीरज चोपड़ा का लाइफ स्टाइल भाला एथलीट रिकॉर्ड

नीरज चोपड़ा का लाइफ स्टाइल भाला फेंक एथलीट रिकॉर्ड टोक्यो ओलंपिक Gold मैडल विजेता शेड्यूल

Niraj Chopr इंडिया के जेवलिन थ्रो यानि कि भाला फेंक खिलाड़ी है. जिन्होंने हालही में टोकयो Olympics 2021 में इंडिया का प्रतिनिधित्व करते हुए बेहतरीन जैवलिन थ्रो करते हुए final में अपनी जगह बनाते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम और देश का कर लिया है. और अपना एवं भारत का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज कर लिया है. उन्होंने final में अपने पहले ही प्रयास में 87.58 मीटर की दूरी फेंक कर एक रिकॉर्ड सेट कर लिया था जिसे कोई भी पार नहीं कर सका. इनके भाला फेंक में बहुत ही सुन्दर प्रदर्शन करने के कारण उन्हें Army में भी शामिल किया गया है. आइये इनके लाइफ के बारे में आपको पूरी विस्तार से बताते हैं.

Niraj chopda ka photo
Niraj chopda ka photo

Niraj Chopra Date Of Birth

भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा का जन्म सन 1997 में 24 December को इंडिया देश के हरियाणा राज्य के पानीपत सिटी में हुआ था। Niraj Chopra के फादर का नाम सतीश कुमार है और इनकी माँ का नाम सरोज देवी है। नीरज चोपड़ा की दो बहने भी हैं। भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा के पिता जी हरियाणा स्टेट के पानीपत डिस्टिक के एक छोटे से गांव खंडरा के किसान हैं, जबकि इनकी माताजी हाउसवाइफ है। नीरज Chopra के कुल पांच भाई बहन हैं, जिनमें से यह सबसे बड़े हैं।

नीरज चोपड़ा की सुरुवाती शिक्षा

भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने अपनी शुरुवाती शिक्षा Hariyana से ही की है। मिले जानकारी के अनुसार इन्होंने Graduate तक की योग्यता प्राप्त की है। अपनी सुरुवाती पढ़ाई को पूरा करने के बाद नीरज चोपड़ा ने BBA Collage में अपना एडमिशन किया था और वहीं से उन्होंने ग्रेजुएशन की !

NIRAJ CHOPRA KA COACH

नीरज चोपड़ा के कोच का नाम उवे होन हैं जो कि जर्मनी के पेशेवर जैवलिन एथलीट रह चुके हैं। इनसे Training लेने के बाद ही Niraj Chopra इतना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं.

Niraj Chopra का उम्र

भाला फेंक खिलाड़ी नीरज की वर्तमान में 23 साल उम्र है, हालांकि दोस्तों उन्होंने अभी तक शादी नहीं की है। यह अभी अपना पूरा ध्यान सिर्फ अपना देश और लक्ष की ओर लगा रहे हैं। Niraj Chopra के Love अफेयर के बारे में भी हमें कोई जानकारी प्राप्त नहीं है।

भाला फेक खिलाड़ी Niraj चोपड़ा ने सिर्फ 11 साल की उम्र में ही भाला फेंकना शुरू कर दिया था। नीरज चोपड़ा ने अपनी Training को और भी ज्यादा मजबूत बनाने के लिए 2016 में एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया जो इनके लिए काफी मददगार साबित हुआ। नीरज chopra ने साल 2014 में अपने लिए एक भाला खरीदा था, जो 7000 रुपया का था। इसके बाद Niraj Chopra ने International Leval पर खेलने के लिए रुपया 1,00000 का भाला खरीदा था। Niraj Chopra ने साल 2017 में एशियाई चैंपियनशिप में 50.23 मीटर की दूरी तक भाला फेंक कर match को जीता था। इसी वर्ष उन्होंने IAAF डायमंड लीग इवेंट में भी हिस्सा लिया था, जिसमें वह 7 स्थान पर रहे थे। इसके बाद Niraj Chopra ने अपने Coach के साथ काफी कठिन Training चालू की और उसके बाद इन्होंने नए-नए कीर्तिमान स्थापित किए।

नीरज चोपड़ा रिकॉर्ड
NIRAJ CHOPRA KE RECORD

2012 में लखनऊ में आयोजित हुए अंडर 16 National Juniar चैंपियनशिप में Niraj Chopra ने 68.46 मीटर भाला फेंक कर Gold Medal को अपने नाम किया किया |

NATIONAL YUTH CHAMPION में नीरज चोपड़ा ने वर्ष 2013 में 2 स्थान हासिल किया था और उसके बाद उन्होंने IAAF वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में भी अपना पोजिशन बनाई थी।
Niraj Chopra ने इंटर यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप में 81.04 मीटर थ्रो फेंककर एज ग्रुप का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। यह प्रतियोगिता वर्ष 2015 में हुई थी।

वर्ष 2016 में Juniar World चैंपियनशिप में 86.48 मीटर भाला फेंक कर नया रिकॉर्ड स्थापित किया था और Gold medal हासिल किया था।
साल 2016 में नीरज चोपड़ा ने दक्षिण एशियाई खेलों में पहले राउंड में ही 82.23 मीटर की थ्रो फेंककर Gold medal को हासिल किया।
वर्ष 2018 में Gold कोस्ट में आयोजित हुए कॉमनवेल्थ खेल में नीरज chopra ने 86.47 मीटर भाला फेंक कर एक और गोल्ड मेडल अपने नाम किया।
साल 2018 में ही नीरज चोपड़ा ने जकार्ता एशियन गेम में 88.06 मीटर भाला फेका और गोल्ड मेडल जीतकर India का नाम रोशन किया।
Niraj Chopra एशियन गेम्स में Gold मेडल प्राप्त करने वाले पहले इंडियन जैवलिन थ्रोअर हैं।इसके अलावा एक ही साल में एशियन गेम और कॉमनवेल्थ गेम में गोल्ड मेडल हासिल करने वाले नीरज चोपड़ा दूसरे खिलाड़ी हैं। इसके पहले साल 1958 में मिल्खा सिंह द्वारा यह रिकॉर्ड बनाया गया था।

नीरज चोपड़ा Tokyo ओलंपिक

फाइनल मैच जोकि 7 अगस्त शाम 4:30 बजे आयोजित किया गया था. इस मैच में निईराज ने बहुत शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया है. और हिंदुस्तान के इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज कर लिया है. इन्होने final मुकाबले में 6 राउंड में से पहले 2 राउंड में ही 87.58 की सबसे ज्यादा डिस्टेंस का रिकॉर्ड सेट कर दिया था, जिसे अगले 4 राउंड में कोई भी खिलाड़ी नहीं तोड़ सका. और अंत में नीरज की पोजीशन पहले नंबर पर ही बनी रही और वे स्वर्ण पदक अपने नाम कर गए.

नीरज चोपड़ा
Niraj chopda ka photo

भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने को टोक्यो ओलंपिक में Perfect जैवलिन थ्रो कर Final में अपनी जगह बनाई और ट्रैक एंड फील्ड में ओलंपिक का पहला medal दिलाने के लिए अपनी दावेदारी को प्रस्तुत किया। नीरज चोपड़ा 86.65 मीटर की कोशिश के साथ क्वालिफिकेशन में top पर रहते हुए ओलंपिक final में अपनी पोजीशन बनाने वाले पहले भारतीय जैवलिन प्लेयर बने। जिसके कारण Niraj Chopra से देश को गोल्ड मैडल की आस जगी है।

जैवलिन थ्रो में ग्रुप ए और ग्रुप बी से 83.50 मीटर क्वालीफिकेशन लेवल को प्राप्त करने वाले प्लेयर के साथ Top 12 खिलाड़ी Final में अपनी जगह बनाएंगे। फाइनल मैच 7 Agust 4:30 बजे होगा।

नीरज चोपड़ा बेस्ट थ्रो
Niraj Chopra Throw

नीरज का अभी तक का सबसे बेस्ट थ्रो आज के टोक्यो ओलंपिक के भाला फेंक के final मैच में 87.58 डिस्टेंस का है.

इससे पहले Chopra जो ग्रुप में पन्द्रहवे स्थान पर भाला फेंक रहे थे, ने 86.65 मीटर का थ्रो फेंका और अपने पहले प्रयास के बाद ही final के लिए क्वालीफाई कर लिया। फ़िनलैंड के लस्सी एटेलटालो एक और थ्रोअर थे, जिन्होंने पहली कोशिश में ऑटोमेटिकली रूप से क्वालीफाई कर लिया।

नीरज चोपड़ा वर्ल्ड रैंकिंग
Niraj Chopra World Ranking

नीरज चोपड़ा की वर्तमान में wold ranking जैवलिन थ्रो की कैटेगरी में स्थान 4 पर है। इसके अलावा वे कई medal एवं पुरस्कार भी जीत चुके हैं.

नीरज चोपड़ा वेतन, नेटवर्थ
Niraj Chopra Ka Salary

वर्तमान के समय में Niraj Chopra जेएसडब्ल्यू Sports टीम में शामिल है। इन्हे स्पोर्ट्स ड्रिंक की फेमस company गोटोरेड के द्वारा ब्रांड एंबेसडर के तौर पर सिलेक्ट किया गया है। नीरज की कुल संपत्ति की बात की जाए तो इनकी कुल संपत्ति 5 मिलियन डॉलर के आसपास है।

नीरज चोपड़ा की सैलरी के बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है, हालांकि इनकी अलग -अलग पुरस्कारों से काफी अच्छी इनकम हो जाती है।

नीरज चोपड़ा Army officer
एक एथिलीट बनने से पहले भारतीय सेना में एक सूबेदार के रूप में कार्यरत थे. वे इसमें जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर थे, उस समय उनकी उम्र मात्र 19 साल थी. और वे इतनी कम उम्र में राजपूताना राइफल्स बंदूक चलाया करते थे.

नीरज चोपड़ा इतिहास में अपना नाम दर्ज किया
भारत को पहली बार ओलंपिक में भाला फेंक में स्वर्ण पदक हासिल हुआ है. इसके लिए इंडिया को कोई भी medal इसके लिए नहीं मिला है.

वर्ष 2008 में निशानेबाजी में अभिनव बिंद्रा ने इंडिया के लिए व्यक्तिगत रूप से पहला स्वर्ण पदक जीता था. जिसके बाद आज दूसरी बार Niraj chopra भाला फेंक में व्यक्तिगत रूप से स्वर्ण पदक अपने नाम करने वाले दुसरे Indian बन गये हैं.
इंडिया को 13 साल बाद ओलंपिक गेम में स्वर्ण पदक जीतने वाले इंडियन नीरज चोपड़ा हैं

नीरज ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले इंडियन एथिलीट बन गये हैं.
इंडिया ने आज से 121 वर्ष पहले एथलेटिक्स में पहला पदक जीता था. इसके बाद आज नीरज ने एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक जीत कर इतिहास में अपना नाम दर्ज कर लिया है.

ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद न सिर्फ Niraj chopra इससे बहुत खुश है बल्कि पूरे India में खुशी की लहर दौड़ रही है. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, एवं अलग -अलग राज्य मंत्री के साथ ही सभी देशवासी Niraj को उनकी जीत के लिए बधाई दे रहे हैं. इसी के चलते उन्हें अलग – अलग जगह से विभिन्न ईनाम देने की घोषणा की जा रही है. जोकि इस प्रकार है –

हरियाणा राज्य में रहने वाले नीरज चोपड़ा को Hariyana की Goverment ने 6 करोड़ रूपये नकद ईनाम सरकारी नौकरी एवं आधी कीमत पर जमीन देने का फैसला किया है.
देश के लिए gold medal जीतने के लिए चोपड़ा को Punjab सरकार ने 2 करोड़ रूपये नगद राशि देने का ऐलान किया है.
इसके अलावा Punjab Goverment ने यह भी एलान किया है कि ओलंपिक पदक विजेता खिलाडियों के नाम पर पंजाब के विभिन्न School एवं सडकों का नाम रखा जायेगा.
नीरज को गोरखपुर नगर निगम की ओर से 1 लाख रूपये का ईनाम दिया जायेगा. और साथ ही इंडिया लौटने पर उनका भव्य स्वागत भी किया जायेगा.
इसके साथ ही BCCI ने भी यह घोषणा की है कि वे भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा को 1 करोड़ रूपये का नगद ईनाम वितरित करेंगे.

आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स फ्रैंचाइज़ी के मालिक ने भी नीरज को 1 करोड़ रु का नगद ईनाम देने का फैसला किया है.
इंडिगो कंपनी ने Niraj को 1 साल के लिए अनलिमिटेड फ्री ट्रेवल देने की भी घोषणा की है.

नीरज अपने बचपन में काफी मोटे थे, जिसके कारण गांव के दूसरे बच्‍चे उनका मजाक बनाते थे, उनके मोटापे से उनके फेमिली वाले भी परेशान थे, इसलिए उनके चाचा उन्‍हें 13 साल की उम्र से दौड़ लगाने के लिए स्‍टेडियम ले जाने लगे। लेकिन इसके बाद भी उनका मन दौड़ में नहीं लगता था। Stedium जानें के क्रम में उन्‍होंने वहां पर दूसरे खिलाड़ियों को भाला फेंकते देखा, तो इसमें वो भी उतर गए। वहां से उन्‍होंने जो भाला फेंकना स्टार्ट किया, वह अब ओलंपिक Gold पर जाकर लगा है।

साल 2016 में बने Army के नायब सुबेदार
पढ़ाई के साथ वे जेवलिन में भी अभ्‍यास करते रहे, इस दौरान उन्‍होंने नेशनल स्‍तर पर कई मेडल अपने नाम किए। नीरज ने 2016 में पोलैंड में हुए आईएएएफ world यू-20 चैम्पियनशिप में 86.48 मीटर दूर भाला फेंककर Gold जीता। जिससे खुश होकर Army ने उन्‍हें राजपुताना रेजिमेंड में बतौर जूनियर कमिशन्ड ऑफिसर के तौर पर नायब सुबेदार के पद पर नियुक्त किया। आर्मी में खिलाड़ियों को Officer के तौर पर कम ही जोइनिंग मिलती है, लेकिन नीरज को उनके प्रतिभा के कारण डारेक्‍ट Officer बना दिया गया।

Niraj Chopra Ka Car

बीते दिनों नीरज चोपड़ा को फोर्ड मस्टैंग चलाते देखा गया है। मुंबई नंबर प्लेट की यह लग्जरी कार नीरज चोपड़ा ने खरीदी है या वह किसी और की कार चला रहे हैं, इसके बारे में तो पता नहीं चला है, लेकिन उनका Video जरूर वायरल हो गया है, जिसके Gold Boy का स्वैग दिख रहा है। फिलहाल आपको बताते चले कि इंडिया में फोर्ड मोटर्स ने अपनी कारों के प्रोडक्शन बंद कर दिया है। साथ ही कंपनी की लग्जरी कारों की बिक्री भी बंद हो गई है। ऐसे में माना जा रहा है कि Niraj Chopra ने पुरानी यानी सेकेंड हैंड फोर्ड मस्टैंग खरीदी है।
आजतक के खास कार्यक्रम ‘जय हो’ में देश के उस हीरो ने शिरकत की, जिसने भारत को पहली बार ओलंपिक एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल दिलाया. ये खिलाड़ी गोल्डन Boy के नाम से मशहूर हो चुका है और इनका नाम है niraj Chopra है

‘आजतक’ के मंच पर ‘गोल्डन ब्वॉय’ नीरज ने कहा कि दुनिया के कई दिग्गज खिलाड़ी final में थे, लेकिन वो मेरा दिन था और मैं जीत गया.

नीरज चोपड़ा से सवाल किया गया कि ओलंपिक में के फाइनल में जब आपने आखिरी बार भाला फेंका तो पलटकर पीछे नहीं देखा, ऐसा क्यों? इसपर नीरज ने कहा कि ‘हर एथलीट को मालूम पड़ जाता है कि उसको थ्रो कितना दूर गया है. 10-11 साल की ट्रेनिंग में इतना अनुभव हो जाता है.’

चोपड़ा ने बताया कि मैंने Medal के लिए बहुत मेहनत की थी. मैं अपने को लकी मानता हूं कि मैं विनर हो पाया. क्योंकि दुनिया के कई दिग्गज खिलाड़ी final में थे, लेकिन वो दिन मेरा था और मैं जीत पाया.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×